अमर उजाला ब्यूरो लखनऊ। प्रदेश सरकार ने आम वादकारियों को तेज, सस्ता और सुलभ न्याय दिलाने की ओर बड़ा कदम उठाते हुए 92 तहसील मुख्यालयों पर ग्राम न्यायालयों की स्थापना की मंजूरी दे दी है। इनमें 18 ग्राम न्यायालय अवध के 10 जिलों में स्थापित होंगे। साथ ही इन न्यायालयों को जल्द से जल्द शुरू कराने के लिए 736 नए पदों का सृजन भी कर दिया है। इसमें जज से लेकर सहयोगी स्टाफ तक शामिल हैं।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बड़ी संख्या में लंबित मुकदमों के तेजी से निपटारे के लिए ऐसी तहसीलों में ग्राम न्यायालय की स्थापना का एलान किया था जहां पहले से वाह्य न्यायालय (जहां मुंसिफ न्यायालयों की अब तक स्थापना नहीं हुई है) स्थापित नहीं हैं। पिछले साल 12 तहसीलों में ग्राम न्यायालयों की स्थापना का फैसला हुआ था। नए ग्राम न्यायालय 54 जिलों की 92 तहसीलों में स्थापित होंगे। राज्यपाल राम नाईक की मंजूरी मिलने के बाद प्रमुख सचिव न्याय अब्दुल शाहिद ने ग्राम न्यायालयों की स्थापना और न्यायालयों के संचालन के लिए पदों के सृजन से जुड़ा आदेश जारी कर दिया है। नए पद फिलहाल 28 फरवरी 2016 तक के लिए सृजित किए गए हैं।
न्याय विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ग्राम न्यायालयों की स्थापना से जिला मुख्यालयों से दूरस्थ स्थित वादकारियों को न्याय मिलने में सुविधा होगी।

उनके घर के पास की तहसील में ही वादों की सुनवाई होगी। उन्हें जिला मुख्यालयों तक लंबी दौड़ नहीं लगानी होगी। उनका समय और किराए-भाड़े का खर्च भी बचेगा। ग्राम न्यायालयों की स्थापना के लिए न्यायिक अधिकारियों से स्टाफ तक के लिए नए पदों का सृजन कर दिया गया है। हर ग्राम न्यायालय में एक सिविल जज, एक-एक आशुलिपिक, अर्दली व चपरासी तथा दो-दो ज्येष्ठ व कनिष्ठ सहायक होंगे। ग्राम न्यायालयों की स्थापना से वादों का निस्तारण भी तेज होगा।वादकारियों को सस्ता सुलभ और तेज न्याय मिल सकेगा |

अवध के जिलों में यहां स्थापित होंगे ग्राम न्यायालय

जिले का नाम   तहसील का नाम
  1. गोंडामनकापुर, तरबगंज
  2. बहराइचनानपारा, महसी
  3. बलरामपुरतुलसीपुर
  4. श्रावस्तीइकौना
  5. फैजाबादमिल्कीपुर, रूदौली
  6. अंबेडकरनगरआलापुर, भीटी
  7. बाराबंकीरामनगर, सिरौली गौसपुर
  8. सीतापुरलहरपुर
  9. रायबरेलीसलोन, लालगंज और ऊंचाहार
  10. अमेठीअमेठी, गौरीगंज

इन पदों का हुआ सृजन

  • पदनाम पदों की संख्या
  • सिविल जज (जूनियर डिवीजन)92
  • आशुलिपिक ग्रेड-392
  • ज्येष्ठ सहायक184
  • कनिष्ठ सहायक184
  • अर्दली92
  • कार्यालय चपरासी92

एक टिप्पणी भेजें

 
Top