एक अप्रैल से शिक्षा सत्र शुरू हो गया है लेकिन शहर के आधा दर्जन से अधिक कालेज की पढ़ाई पंद्रह दिन तक ठप हो जाएगी।

यह वह स्कूल हैं जहां माध्यमिक शिक्षा विभाग ने यूपी बोर्ड उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन केंद्र बना दिया है। इस वजह से विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। दरअसल सरकार माध्यमिक स्कूलों में  पंजीकरण पर जोर दे रही है।

रैली के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक विद्यार्थियों का प्रवेश सरकारी स्कूलों में हो सके। ऐसे में शहर के आठ बड़े स्कूलों को उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन केंद्र बनाया गया है। इन स्कूलों में सोलह अप्रैल से पठन पाठन शुरू हो सकेगा।

इसमें एंग्लो बंगाली इंटर कालेज, राजकीय बालिका इंटर कालेज इलाहाबाद, राजकीय इंटर कालेज, केसर विद्यापीठ इंटर कालेज, अग्रसेन इंटर कालेज, भारत स्काउट गाइड इंटर कालेज, केपी इंटर कालेज और सीएवी इंटर कालेज शामिल हैं।

यह सभी शहर के बड़े कालेज में शुमार हैं। राजकीय इंटर कालेज के प्रधानाचार्य रणविजय सिंह ने बताया कि मूल्यांकन केंद्र बनाए जाने में सरकारी स्कूल को प्राथमिकता दी जाती है ताकि मूल्यांकन केंद्र की शुचिता व गोपनीयता बनी रहे।

सोलह अप्रैल से सभी कक्षाएं सुचारू रूप से संचालित होंगी। जिला विद्यालय निरीक्षक कोमल यादव ने बताया कि मूल्यांकन कार्य समाप्त होने के बाद कक्षाएं शुरू होंगी। उच्च अधिकारियों के आदेश के बाद मूल्यांकन केंद्र बनाए गए हैं।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top