संसू, अंबेडकरनगर : बेसिक शिक्षा विभाग ने भी स्वच्छता मिशन को कामयाब बनाए जाने में अपना योगदान प्रभावी करने का निर्णय लिया है। लिहाजा जनपद के सभी परिषदीय विद्यालयों में शौचालयों के क्रियाशील होने के साथ ही इनमें स्वच्छता की गहन पड़ताल की जाएगी। स्कूल खुलने के साथ शौचालयों का ताला भी खोलना प्रधानाध्यापक की जिम्मेदारी होगी।

बेसिक शिक्षा अधिकारी जेएन सिंह ने विद्यालयों को खुले में शौचमुक्त बनाए जाने की दिशा में अहम की है। खंड शिक्षा अधिकारियों की आकस्मिक बैठक आहूत कर सबसे शौचालय विहीन विद्यालयों को चिन्हित करने का निर्देश दिया है।

इसके अलावा निर्मित शौचालयों के बदहाल एवं अक्रियाशील होने का भी आंकड़ा एकत्र किया जाएगा। तुदपरांत खराब एवं बंद पड़े शौचालयों को प्राथमिकता के आधार पर प्रयोग लायक बनाया जाएगा। यही नहीं बीएसए समेत खंड शिक्षा अधिकारी उक्त शौचालयों के उपयोग लायक होने तथा इनके खुला होने का भी सत्यापन करेंगे। इस दौरान शौचालयों के निष्प्रयोज्य तथा बंद पाए जाने पर प्रधानाध्यापक के विरुद्ध कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

बीएसए ने बताया कि चुनाव के दौरान अधिकांश शौचालयों को क्रियाशील बनाया जा चुका है। जबकि सत्यापन के उपरांत पंचायतीराज विभाग की मदद से शौचालयों को उपयोग के लायक तैयार किया जाएगा। विद्यालयों में छात्रों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने को कहा गया है।’

एक टिप्पणी भेजें

 
Top