रामपुर : मदरसा शिक्षकों को स्थाई कराने की मांग को लेकर संयुक्त मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक समूह के सदस्यों ने केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में मदरसा शिक्षकों ने कहा कि प्रदेश में लगभग 30000 आधुनिकीकरण मदरसा शिक्षक 23 वर्षों से अपनी सेवा दे रहे हैं।

शिक्षकों को समय पर मानदेय नहीं मिलता है। आज भी केंद्र सरकार पर मदरसा शिक्षकों पर दो से तीन वर्षों का मानदेय बकाया है। सबसे बड़ी समस्या यह है कि शिक्षक बढ़ाने के बजाए पूर्व से कार्यरत चौथे शिक्षक के पद को समाप्त करके मानदेय ही रोक दिया गया है।

कहा कि एसपीक्यूईएम योजना को लागू करते हुए मदरसा आधुनिक शिक्षकों को स्थाई किया जाए। मदरसा शिक्षकों की निमावली बनाई जाए, जिससे मदरसा प्रबंधकों पर लगाम लगाई जा सके।

ज्ञापन देने से पहले अंबेडकर पार्क में बैठक कर समस्याओं पर चर्चा की। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष शहजादे अली, रजाउल, असगर अली, नसीर अहमद, मुहम्मद फुरकान, नजाकत अली, अशरफ अली, मुहम्मद जावेद, मुहम्मद इस्माईल आदि मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top