जागरण संवाददाता, फतेहपुर : बीटीसी 2015 के प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा जिला मुख्यालय के तीन केंद्रों में हुई। तीनों केंद्रों में सचल दस्तों के डेरा डाल देने से परीक्षार्थियों के नकल करने का हौसला टूट गया।

बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे 1216 परीक्षार्थियों में 7 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। दो पालियों में आयोजित परीक्षा की तैयारियों एवं शुचिता के लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान ने पुख्ता इंतजाम किए थे।

बीटीसी परीक्षा के लिए जिन तीन शिक्षण संस्थानों को केंद्र बनाया गया था उसमें बाबू चंद्रिका प्रसाद डिग्री कॉलेज हुसेनगंज में 416, निवेदिता सिंह महिला महाविद्यालय तथा श्रीमती रामा अग्रहरि महिला महाविद्यालय में क्रमश: 400, 400 परीक्षार्थी आवंटित किए गए थे। परीक्षा की शुचिता के लिए शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान ने पहले की प्रति केंद्र में एक पर्यवेक्षक नियुक्त करके भेज दिया था।

इसके अलावा सचल दल में डायट प्राचार्य, अनीत उत्तम, दीपक कुमार तथा उप प्राचार्य रविशंकर के साथ राजेश त्रिपाठी, सुरजीत तथा वरिष्ठ प्रवक्ता बृजभूषण चौधरी के सचल दल में निर्मल मिश्रा, आलोक अवस्थी की ड्यूटी लगाई गई थी। तीनों सचल दलों ने एक एक केंद्र में डेरा डाल दिया।

डायट प्राचार्य डॉ. आशुतोष द्विवेदी ने बताया कि जिले के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के अलावा 20 निजी कॉलेजों की संयुक्त परीक्षा का आयोजन किया गया है। परीक्षा की शुचिता के लिए सभी प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं।

दो पालियों में परीक्षा का आयोजन किया गया था। जिसमें 1216 पंजीकृत रहे जिसमें 7 परीक्षार्थी अनुपस्थित पाए गए। सभी केंद्रों में शांति पूर्वक परीक्षा निपटी।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top