जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : सभी परिषदीय प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में चल रहे मीड डे मील के मीनू में शासन द्वारा बदलाव किया जा सकता है। लंबे समय से इसके कयास लगाए जा रहे हैं। शासन द्वारा निर्धारित किए गए वर्तमान मिड डे मील में सप्ताह के सातों दिन विद्यार्थियों को अलग अलग भोजन दिए जाने का प्रावधान है।

विद्यार्थियों को दिए जाने वाले भोजन में उच्च प्रोटीन युक्त खाद्य सामग्री शामिल किए जाने की काफी समय से मांग की जा रही है। इसी पर अमल करते हुए शासन द्वारा निकट भविष्य में मिड डे मील में बदलाव किया जा सकता है। शासन से शिक्षा विभाग विद्यार्थियों के भोजन में अवश्य रूप से दूध व अन्य उच्च प्रोटीनयुक्त खाद्य सामग्रियों को शामिल किए जाने की मांग कर रहा है। इसे लेकर शासन पसोपेश में है।

दरअसल शासन स्तर पर सबसे ज्यादा असमंजस दूध की लागत व उसकी गुणवत्ता को लेकर है। जहां एक तरफ बाजार में फुल क्रीम दूध की कीमत 45 से 50 रुपये प्रति लीटर है,वहीं शासन को इस बात की भी चिंता है कि इतनी रकम खर्च करने के बाद भी पता नहीं किस गुणवत्ता का दूध विद्यार्थियों को दिया जाएगा।

बता दें कि जिले में इस समय 12 संस्थाएं परिषदीय विद्यालयों में मिड डे मील वितरण का कार्य कर रही हैं।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top