हरदोई : भारत साक्षरता मिशन को केंद्र सरकार ने छह माह के लिए और बढ़ा दिया है। वर्ष 2010 से चल रहा यह कार्यक्रम 31 मार्च को समाप्त हो गया था। साक्षरता मिशन के विस्तार के फैसले ने इसके संविदा कर्मियों को
सौगात दी है।

निदेशक साक्षरता एवं वैकल्पिक शिक्षा ने गुरुवार को हरदोई समेत सभी जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों को  इस संबंध में आदेश जारी किया है।

इस योजना को छह माह का विस्तार देने से कर्मियों की नौकरी चलती रहेगी तो करीब एक लाख नवसाक्षरों की जिंदगी में शिक्षा की रोशनी पहुंचती रहेगी।

वर्ष 2010 में शुरू किए गए साक्षरता कार्यक्रम में जिला समन्वयक, ब्लाक समन्वयक और गांवों में प्रेरकों की तैनाती कर निरक्षरों को साक्षर बनाने की मुहिम शुरू की गई थी। हरदोई में चार जिला समन्वयक, 19 ब्लॉक समन्वयक और 2202 प्रेरकों की नियुक्ति हुई थी।

गांवों में संचालित लोक शिक्षा केंद्रों पर निरक्षरों को साक्षर बनाया जाता है और उनकी परीक्षा भी कराई जाती है। पिछली परीक्षा में जिले के 19 विकास खंडों से 69 हजार नवसाक्षरों ने भाग लिया था तो 30 अप्रैल को होने वाली परीक्षा के लिए एक लाख सात हजार का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

निदेशक साक्षरता, वैकल्पिक शिक्षा एवं सचिव राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण अवध नरेश शर्मा ने गुरुवार को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेजे पत्र में साक्षर भारत योजना में समयवृद्धि करते हुए 30 सितंबर 2017 तक हो जाने की जानकारी दी है।’

.

एक टिप्पणी भेजें

 
Top