संवाददाता, हरदोई : परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा सुधार के लिए विभाग ने कड़े कदम उठाए हैं। विद्यालयों में प्रार्थना के साथ राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत की फोटो अनिवार्य रूप से ली जाएगी। वहीं योग अनिवार्य करते हुए अवकाश के पूर्व पीटी होगी।

टास्क फोर्स शैक्षिक गुणवत्ता का निरीक्षण करेंगे और खामी मिलने पर विद्यालयों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मसीहुज्जमा सिद्दीकी ने बताया कि एक जुलाई से ही गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर जोर देते हुए सघन अभियान चलाया जाएगा। प्रार्थना सभ की संकुल प्रभारियों को फोटो भेजी जाएगी

वहीं अध्यापक भी अपने मोबाइल में फोटो सुरक्षित रखेंगे। विद्यालय में निश्चित समयांतराल पर घंटा बजना अनिवार्य कर दिया गया है। बीएसए ने बताया कि बीईओ एवं शिक्षक प्रतिनिधियों विद्यालयों में गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा के लिए पत्र भेजा जाएगा।

टास्क फोर्स के सदस्य विद्यालयों का निरीक्षण करने जाएं और यह पाया जाए कि अमुक शिक्षक अच्छा कार्य नहीं कर रहा है तो उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाए। बीएसए ने बताया कि कोई अध्यापक बिना अवकाश के कार्यालय में न आएं। यदि कोई अध्यापक बिना बीईओ की अनुमति से बीएस कार्यालय में उपस्थित पाया जाता है तो इस संबंध में बीईओ, संबंधित न्याय पंचायत समन्वयक एवं अध्यापक का स्पष्टीकरण तलब किया जाएगा।

साथ ही अगर कोई शिक्षक आकस्मिक मेडिकल पर चला जाता है तो उसकी खंड शिक्षा अधिकारी को सूचना देगा सूचना न देने पर अवकाश से लौटने के बाद उसे विद्यालय में कार्यभार ग्रहण नहीं कराया जाएगा। वहीं प्रत्येक सप्ताह में शनिवार को बैग लेस डे कर दिया जाए और बच्चों को इस दिन ज्ञानवर्धक बातें, महापुरुषों की जीवनी, मनोरंजन, खेलकूद एवं मानसिक विकास के लिए कार्य निर्धारित किए जाएं।

बीएसए ने बताया कि ग्राम पंचायत के समस्त सफाई कर्मियों को विद्यालयों की साफ सफाई का दायित्व सौंपा जाएगा तथा सफाई कर्मियों के वेतन आहरण के समय विद्यालय के प्रधानाध्यापकों से उक्त के संबंध में प्रमाण पत्र लिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त भी खंड शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से आदेश जारी किए गए हैं और उनका पालन न करने पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top