बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूल के शिक्षकों को आकस्मिक अवकाश व्हाट्सएप, ई-मेल, एसएमएस और फोन पर ही मिलेगा। कमिश्नर के निर्देश पर सर्व शिक्षा अभियान के मम्फोर्डगंज स्थित कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।

आकस्मिक अवकाश के लिए पेपरलेस प्रणाली लागू करने का आदेश बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा ने जारी कर दिया है। सात जुलाई के आदेश में बीएसए ने लिखा है कि सीएल के लिए कागजी प्रार्थना व्यवस्था समाप्त कर दी गई है।

शिक्षक आकस्मिक अवकाश से पूर्व या आकसिमक अवकाश वाले दिन स्कूल खुलने के समय से पहले सूचित करेंगे। संबंधित खंड शिक्षाधिकारियों के सीयूजी नंबर पर भी सूचना प्राप्त कराएंगे। मानव संपदा साफ्टवेयर पर रजिस्ट्रेशन के बाद मिली कर्मचारी संख्या को भी बताना पड़ेगा। नई व्यवस्था से सीएल के नाम पर स्कूल न जाने का खेल भी बंद होगा।

कुछ स्कूलों के शिक्षक बिना तारीख लिखा आकस्मिक अवकाश का प्रार्थना पत्र एक-दूसरे को दिए रहते हैं। अचानक से यदि कोई अधिकारी स्कूल की जांच के लिए पहुंच जाए तो स्कूल में मौजूद शिक्षक अपने अनुपस्थित साथी के प्रार्थना पत्र पर तारीख लिखकर दिखा देता है कि वे आकस्मिक अवकाश पर हैं।

सीएल के लिए हेल्पलाइन व्हाट्सएप: 9453004062 एसएमएस: 9455390916 ई-मेल: bsaalld@gmail.com टेलीफोन: 0532-2250734

शिक्षकों के सवाल 1-यह कैसे पता चलेगा कि एक ही स्कूल के कितने लोग छुट्टी पर रहेंगे। हो सकता है स्कूल के सभी लोग मैसेज भेज दें तो क्या स्कूल बंद। यदि व्यवस्था है तो उसको बताया जाए?

2-यह तो बताया गया कि शिक्षक अपने खंड शिक्षाधिकारी को भी संदेश प्रेषित करेगा पर प्रधानाध्यापक कैसे जानेगा, इसकी कोई सूचना नहीं दी गयी?

3-क्या अध्यापक सेवा नियमावली में अवकाश लेने देने की प्रक्रिया को बदला गया?

4-क्या प्रधानाध्यापक एक क्लर्क का काम करेगा?

5-क्या इससे अविश्वास की कड़ी और नहीं बढ़ेगी?

एक टिप्पणी भेजें

 
Top