राज्य ब्यूरो चन्दौसी : अब परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की पढ़ाई की गुणवत्ता जांची जाएगी। बच्चों की पढ़ाई की स्थिति ठीक नहीं होने पर शिक्षक को जिम्मेदार ठहराया जाएगा। नवंबर माह में होने वाले नेशनल अचीवमेंट में अच्छी शिक्षा ग्रहण करा रहे स्कूलों को शामिल किया जाएगा।

प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में निश्शुल्क शिक्षा ग्रहण कराने के साथ-साथ बच्चों को अन्य सुविधाएं भी मुहैया कराईं जा रही हैं। बच्चों को मिड-डे-मील का खाना, पहनने के लिए ड्रेस, पढ़ने के लिए निश्शुल्क किताबें आदि शामिल हैं लेकिन इसके बावजूद भी पढ़ाई के स्तर में सुधार नहीं हो पा रहा है।

अभिभावकों का विश्वास परिषदीय विद्यालयों से उठता जा रहा है। यही कारण है कि स्कूलों से छात्र संख्या कम होती जा रही है। गिरते पढ़ाई के स्तर को लेकर प्रदेश सरकार गंभीर हुई है। अब परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की पढ़ाई की गुणवत्ता जांची जाएगी।

सुधार नहीं मिलने पर शिक्षकों को जिम्मेदार ठहराया जाएगा। शासन द्वारा जारी किए गए आदेशों में कहा गया है कि शिक्षक पढ़ाई पर विशेष जोर देंगे। बच्चों को खेल-खेल में पढ़ाएंगे, जिससे बच्चों को उनकी पढ़ाई अच्छी तरह समझ में आ सके।

बीएसए डॉ. सत्यनायारण ने बताया कि शिक्षकों को पढ़ाई की गुणवत्ता में सुधार के निर्देश दिए गए हैं। अच्छी पढ़ाई कराने वाले स्कूलों को चिन्हित किया जाएगा। नवंबर में होने वाले नेशनल अचीवमेंट में उन स्कूलों को शामिल किया जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top