संवाद सूत्र, मिलक : सरकारी स्कूलों में अध्यापकों और शिक्षामित्रों की मनमानी का सिलसिला जारी है। समय से पहले स्कूल बंद कर घर चले जाते हैं। वहीं स्कूल परिसर में उपले थापे जा रहे हैं।

खंड शिक्षाधिकारी विनोद कुमार गंगवार ने स्कूलों का निरीक्षण किया। निरीक्षण में अध्यापक गायब मिले तो कुछ गुरुजी उपस्थिति रजिस्टर में अपने हस्ताक्षर कर घर चले गए।

लाड़पुर गांव में निरीक्षण के दौरान स्कूल के हेड मास्टर साहब के उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर करके घर चले गए थे।

बीइओ के निरीक्षण की खबर पर वह स्कूल पहुंचे। वहीं दो अध्यापक आरसी शफीक और कमलजीत पांडेय अनुपस्थित मिले। धमोरा में अध्यापिका मीनाक्षी बिना किसी सूचना के स्कूल से गायब मिलीं।

गांव रजपुरा के प्राइमरी स्कूल में शिक्षामित्रों की मनमानी खूब चल रही है। स्कूल खुलने के समयानुसार सुबह आठ बजे से एक बजे का है। इसके बावजूद बुधवार को 10:30 ही स्कूल बंद मिला। वहीं स्कूल परिसर में उपले थोपते मिले।

शिक्षामित्र कुसुमलता से फोन कर पूछा तो उन्होंने 15 मिनट पहले ही स्कूल बंद करके एक बर्थडे पार्टी में शामिल होने के लिए निकलने की बात कहकर फोन काट दिया।

खंड शिक्षाधिकारी विनोद कुमार गंगवार का कहना है कि कार्रवाई के लिए बीएसए को रिपोर्ट भेजी जाएगी। स्कूलों में उपले थोपे जाने के सवाल पर कहा कि स्कूल की सीमा की पैमाइश लेखपाल के द्वारा कराकर चारदीवारी कराई जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top